आगरा: हरेश चतुर्वेदी पानी की सतह पर करते हैं कई घंटे ‘जलयोग’, देखकर लोग रह जाते हैं दंग


आगरा. 21 जून विश्व योग दिवस (International Yoga Day 2022) के रूप में मनाया जाता है और तरह-तरह के योग किये जाते हैं, लेकिन हम आपको एक अलग तरह के योग के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में आपने शायद न सुना होगा और न देखा होगा. हम बात कर रहे हैं जलयोग की. जल की सतह पर योगासन करना और घंटों तक योगासन की मुद्रा में सतह पर बने रहना आपको सुनने में कुछ अजीब सा जरूर लगता है, लेकिन ताजनगरी आगरा में इसके एक एक्सपर्ट भी हैं.

शहर के जाने माने क्रिमिनल वकील हरेश चतुर्वेदी को इसी योगासन में महारथ हासिल है. पेशे से वकील और आध्यात्म में विश्‍वास रखने वाले हरेश चौबे को इस हुनर में माहिर होने के लिए दो महीने का समय लगा. खंदारी निवासी हरेश ने दस साल पहले पानी में योग करने का अभ्यास शुरू किया. हर रोज दो घंटे का अभ्यास और अपनी लगन से महज दो महीने में किताबों में लिखीं. कल्पना को साकार करने में सफल हो गये.

पानी में घंटों करते हैं कई आसन
हरेश ने संत महात्माओं के पानी में योग करने के किस्से सुने थे इसी बात ने उन्हें प्रेरणा दी और शुरू हो गया प्रतिदिन का जलयोग अभ्यास. अब वह पानी की सतह पर घंटों प्राणायाम, पद्मासन, ब्रह्मासन, ताड़कासन, गरुणासन की मुद्रा में खड़े और बैठे रहते हैं और लगभग चार घंटे तक लगातार वो ये योग पानी पर कर सकते हैं. वे कहते हैं कि यह एक तपस्या है, जिसे सीखने के लिए योग और तैराकी आना जरुरी है. इस कार्य को करते समय कई खतरे भी हैं, लेकिन उनके ऊपर इस्ट देव की कृपा रहती है.

हुनर को विस्तार देने का है सपना
योग गुरु हरेश का बस अब एक ही सपना है कि किसी तरह सरकार उनका साथ दे, ताकि वो इस हुनर में लोगों व आने वाली पीढ़ी को माहिर कर सकें और राष्ट्रीय स्तर पर इसे खेल का रूप दे सकें. बस जरूरत है तो कुछ ऐसे हाथों की जो उनकी मदद को आगे आयें, ताकि ऋषि मुनियों की इस परंपरा को आगे बढ़ाया जा सके.

Tags: Agra news, International Yoga Day, UP news



Source link

more recommended stories