23 मई से आ रही है मेडिकल डिवाइस पार्क में प्लॉट लेने की योजना, जाने प्लान


नोएडा. सर्जीकल आइटम और मेडिकल फील्ड से जुड़ी मशीनें अब जेवर एयरपोर्ट (Jewar Airport) के पास बनेंगे. इसके लिए मेडिकल डिवाइस पार्क बनाया जा रहा है. 23 मई को योजना लांच की जा रही है. कोरोना काल में आई मेडिकल इंस्टूमेंट की कमी को देखते हुए मेडिकल डिवाइस पार्क (Medical Device Park) बनाने का फैसला लिया गया था. यमुना अथॉरिटी (Yamuna Authority) मेडिकल डिवाइस पार्क के लिए जमीन का आवंटन (Land Allotment) करेगी. पहले फेज में 110 एकड़ जमीन का आवंटन किया जाएगा. जमीन आवंटन संबंधी पूरा प्लान अथॉरिटी ने जारी कर दिया है. शुरुआत में 85 प्लॉट आवंटित किए जा सकते हैं. ऐसा दावा किया जा रहा है कि नॉर्थ इंडिया का यह पहला मेडिकल डिवाइस पार्क होगा.

350 हेक्टेयर जमीन पर बनेगा मेडिकल डिवाइस पार्क

यमुना अथॉरिटी से जुड़े अफसरों की मानें तो मेडिकल डिवाइस पार्क कुल 350 हेक्टेयर जमीन पर बनेगा. इसमे कुल 200 प्लॉट होंगे. पहले फेज में 110 हेक्टेयर जमीन पर 85 प्लॉट का आवंटन किया जाएगा. योजना के तहत पहले फेज में 1000 वर्गमीटर के 60 प्लॉट, 2000 वर्गमीटर के 20 और 4000 वर्गमीटर के 5 प्लॉट आवंटित किए जाएंगे. जबकि दूसरे फेज में 115 प्लॉट आवंटित करने की योजना है.

23 मई से 8 जून तक कर सकेंगे आवेदन

यमुना अथॉरिटी की ओर से जारी प्लान के मुताबिक 23 मई से मेडिकल डिवाइस पार्क में प्लॉट के लिए आवेदन किया जा सकेगा. आवेदन करने की आखिरी तारीख 8 जून होगी. 23 जून को प्लॉट के लिए ड्रॉ निकाला जाएगा. प्लॉट लेने वालों को केन्द्र और राज्य सरकार की ओर से सब्सिडी भी दी जाएगी. वहीं बिजली-पानी जैसी अन्य सुविधाओं में भी खासी रियायत दी जाएगी.

सेक्टर-142 से बॉटेनिकल गार्डन मेट्रो स्टेशन तक बनेगा कॉरिडोर, जानें प्लान

फ्लैटेड फैक्ट्री कॉन्सेप्ट पर भी होगा मेडिकल पार्क में काम

जानकारों की मानें तो फ्लैटेड फैक्ट्री कॉन्सेप्ट (एफएफसी) से ऐसे कारोबारी भी कारोबार शुरु कर सकते हैं जिनके पास कम पूंजी है. ज़मीन खरीदने और फैक्ट्री बनवाने से लेकर उसका स्ट्राक्चर तक तैयार कराने लायक लागत नहीं है. ऐसे में फ्लैटेड फैक्ट्री कॅन्सेप्ट बहुत ही काम आता है. इसके तहत अपने काम के हिसाब से फैक्ट्री में पहले से तैयार फ्लोर किराए पर लेकर काम शुरु किया जा सकता है.

आप भी मेडिकल पार्क में ऐसे कर सकते हैं कारोबार

मेडिकल डिवाइस पार्क में कारोबार करने के लिए पहले से निर्धारित कुछ शर्तों का पालन करना होगा. शर्त पूरी करने के बाद ही आवेदक को प्लॉट का आवंटन किया जाएगा. सबसे पहले तो यह कि आवेदन करने वाली कंपनी का फार्मा में रजिस्ट्रेशन हो. कंपनी वर्ल्ड लेवल की होनी चाहिए. या फिर कंपनी पहले से ही इस फील्ड में काम कर रही हो. मेडिकल डिवाइस पार्क में इलेक्ट्रोनिक डिवाइस के साथ-साथ रेडियोलॉजिकल डिवाइस भी बनाई जाएंगी.

Tags: Jewar airport, Medical Devices, Yamuna Authority



Source link

more recommended stories