2023 तक ग्रेटर नोएडा में बनेंगे 100 EV चार्जिंग स्टेशन, ऐसे हो रही तैयारी


नोएडा. वायु प्रदुषण (Air Pollution) को काम करने के लिए इलेक्ट्रिक व्हीकल (Electric Vehicle) को बढ़ावा देने पर जोर दिया जा रहा है. बजट 2022 में केन्द्र सरकार भी ईवी को लेकर बड़ा ऐलान कर चुकी है. देश में राष्ट्रीय बैटरी स्वैपिंग नीति लागू की जा रही है. देश के शहरों में ज्यादा से ज्यादा ईवी चार्जिंग स्टेशन (EV Charging Station) खोलने पर जोर दिया जा रहा है. इसी स्कीम के तहत दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) भी 100 चार्जिंग स्टेशन लगाने जा रही है. इसकी तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. अथॉरिटी जल्द ही रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल निकालकर कंपनी का चयन करेगी. ऐसा दावा किया जा रहा है कि साल 2023 तक 100 चार्जिंग स्टेशन बनकर तैयार हो जाएंगे.

ग्रेटर नोएडा में यहां बनेंगे 100 चार्जिंग स्टेशन

शॉपिंग करते हुए या मूवी देखते हुए आप अपनी इलेक्ट्रिक कार या स्कूटी-बाइक को चार्ज करा सकते हैं. इसके लिए आपको अलग से वक्त नहीं निकालना होगा. इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन लगाए जाने के लिए केन्द्र सरकार कुछ इसी तरह की योजना पर काम कर रही है. ग्रेटर नोएडा में इसी तर्ज पर 100 इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन लगाए जाने पर काम चल रहा है.

गौरतलब रहे अकेले गौतम बुद्ध नगर में ही दो साल में करीब 7 हजार इलेक्ट्रिक वाहनों का रजिस्ट्रेशन हो चुका है. जानकारों की मानें तो गौतम बुद्ध नगर आरटीओ में इस वक्त 5,938 इलेक्ट्रिक रिक्शा, 611 दोपहिया, 299 इलेक्ट्रिक कार्ट्स, 82 चार पहिया वाहन और सात तिपहिया वाहन पंजीकृत हैं. बीते कुछ महीने से आंकड़ों में और सुधार आया है. अब हर रोज करीब आम तौर पर एक दिन में यह आंकड़ा 15 इलेक्ट्रिक वाहनों से ऊपर निकल रहा है.

नोएडा में फिर महंगा होगा आशियना और कारोबार का सपना, बढ़ेंगे जमीन के दाम

यहां खुलेगा सबसे पहला चार्जिंग स्टेशन

ग्रेटर नोएडा में पहला इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशन सेक्टर अल्फा के कमर्शियल एरिया में खुलेगा. इसके लिए जगह भी तय कर ली गई है. लोगों की भीड़भाड़ और जरूरत को देखते हुए पहले स्टेशन के लिए सेक्टर-अल्फा को चुना गया है. करीब 6 महीने पहले हुए एक अन्य सर्वे में भी सेक्टर-अल्फा का चुनाव किया गया था. सर्वे टीम का मानना है कि अल्फा सेक्टर में सभी तरह के वाहनों की आवाजाही ज्यादा रहती है. ई-व्हीकल भी खूब आते हैं. यहां बड़ी संख्या में दुकान और शोरुम भी हैं. यही वजह है कि पहला चार्जिंग स्टेशन अल्फा सेक्टर में खोला जा रहा है.

मॉल और मल्टीप्लेक्स पास खुलेंगे चॉर्जिंग स्टेशन

सरकार की योजना है कि इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन शॉपिंग मॉल, मल्टीप्लेक्स और भीड़भाड़ वाली जगह पर खोले जाएं. यह वो जगह हैं जहां ज्यादा लोग एक दो घंटे तक के लिए आते हैं. मकसद यह है कि जब व्यक्ति मॉल में शॉपिंग कर रहा हो या मल्टीप्लेक्स में मूवी देख रहा हो तो उतनी देर तक उसकी कार या स्कूटी-बाइक बाहर चॉर्जिंग स्टेशन पर चार्ज होती रहेगी. इसके लिए वाहन मालिक को अलग से वक्त नहीं निकलना होगा. बेवसाइट पर ई-व्हीकल को चार्ज कराने की जानकारी दी जाएगी. जानकारी दो तरह से होगी. पहले तो  शहरभर में मौजूद इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशन की सूची. और दूसरा तरीका यह होगा कि जिला और जोन के हिसाब से मौजूद चार्जिंग स्टेशनों की सूची उनके गूगल मैप लोकेशन के आधार पर दी जाएगी.

100 इलेक्ट्रिक वाहनों के मॉडल होंगे चार्ज

-14 इलेक्ट्रिक दो पहिया वाहन (हीरो इलेक्ट्रिक, ओकिनावा, एम्पीयर, जितेंद्र न्यू ईवी टेक और ली-आयनों इलेक्ट्रिक).

– 12 इलेक्ट्रिक चार पहिया वाहन (टाटा-महिंद्रा).

– चार इलेक्ट्रिक ऑटो (2 महिंद्रा, 1 पिआगो और 1 सारथी).

– ई-रिक्शा के 45 मॉडल.

– 17 ई-कार्ट मॉडल.

इलेक्ट्रिक वाहन चार्ज कराने के लगेंगे इतने रुपये

जानकारों की मानें तो दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहन का चार्जिंग शुल्क लो-टेंशन लाइन से 4.5 रुपये प्रति यूनिट और हाई-टेंशन से 5 रुपये प्रति यूनिट होगा. यह भारत में सबसे कम टैरिफ मूल्य है. इस कीमत के साथ, चार्जिंग सुविधा के आधार पर सर्विस चार्ज जोड़ा जाता है.

Tags: Air pollution, Electric Vehicles, EV charging, Greater noida news



Source link

more recommended stories