13 साल में नहीं हुआ काम, तो क्या बिजली विभाग डकार गया 6 करोड़!

गोपालगंज का मोस्ट वॉन्टेड अपराधी परमेन्द्र यादव UP के कुशीनगर से गिरफ्तार, दर्ज हैं कई मामले


बांदा. बांदा में बिजली विभाग (Lectricity department scam) के अधिकारियों की घोर लापरवाही सामने आई है. इसमें सरकार के द्वारा दिए गए शहर से बांदा बहराइच मार्ग में बिजली विभाग को 321 से 318 मीटर सुंदरीकरण के लिए रास्ते में बिजली लगाकर शहर को चकाचौंध करने की जिम्मेदारी दी गई थी. इसके लिए बजट भी 13 साल पहले विभाग को दे दिया गया था. पीडब्ल्यूडी विभाग ने रास्ता बनाकर अपना काम पूरा करते हुए जिम्मेदारी का निर्वहन किया था, लेकिन बिजली विभाग को जो बजट मिला था बजट मिलने के बाद आज तक काम नहीं किया गया है.

13 साल पूरे होने के बाद बिजली विभाग ने कहीं कोई कार्य नहीं किया है. बिजली विभाग को 6 करोड़ की धनराशि मुहैया कराने के बाद भी अब तक कार्य नहीं हुआ है. अब यही 6 करोड़ की कार्य लागत अब जोड़ी जाए तो लगभग 10 से 12 करोड़ होती है. इस दौरान जनपद में कई बड़े अधिकारी बिजली विभाग के आए और चले गए लेकिन किसी ने भी इस कार्य को करने की जहमत नहीं उठाई गई है. इस पूरे मामले में चित्रकूट धाम मंडल के कमिश्नर दिनेश कुमार सिंह ने मामले का संज्ञान लेते हुए संबंधित अधिकारियों की शिकायत करते हुए शासन को जांच कराने की लिए पत्र भी भेजा है.

मामले की जानकारी देते हुए कमिश्नर दिनेश कुमार सिंह ने बताया कि 2009 में बिजली विभाग को एक कार्य योजना सौंपी गई थी जो कि बांदा बहराइच मार्ग में बिजली विभाग को रास्तों में स्ट्रीट लाइट लगानी थी.

यह शहर और शहर से बाहर का एरिया सुंदर लगे लेकिन उस दौरान विभाग को विभाग को कार्य का पूरा पैसा देने के बाद भी आज तक कोई कार्य विभाग के द्वारा नहीं कराया गया. इसमें विभाग के तमाम कर्मचारियों की घोर लापरवाही सामने आई है. पूरे मामले में शासन को जांच के लिए पत्र लिखा है और पूरे मामले की जांच के बाद दोषियों पर कार्रवाई हो सकती है.

आपके शहर से (बांदा)

उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश

Tags: Banda News, UP scams, Uttar pradesh news



Source link

more recommended stories